Articles

शत-प्रतिशत टीकाकरण हमारा नैतिक दायित्व- कलेक्टर

जिला स्तरीय मिशन इन्द्रधनुष की समीक्षा आज कलेक्टर श्री अनिल सुचारी ने आज की। कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में हुई इस बैठक में अभियान के तहत अब तक हुए टीकाकरण कार्यो की प्राथमिक उप स्वास्थ्य केन्द्रवार समीक्षा की गई।
कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि जिले में शत प्रतिशत टीकाकरण कराना हमारा नैतिक दायित्व है। उन्होंने अभियान में विदिशा जिला बार-बार शामिल होने पर खेद जाहिर करते हुए कहा कि टीकाकरण जैसे महत्वपूर्ण कार्य को क्रियान्वित करने वालों के द्वारा ईमानदारी पूर्ण कार्य नही किए जा रहे है। यह परलिक्षित होता है। उन्होंने कठोर लहजे में चेतावनी देते हुए कहा कि अब यदि टीकाकरण में कही भी त्रुटियां पाई जाती है तो संबंधितों के साथ-साथ बीएमओ भी दण्ड के भागीदारी होगे। उन्होंने एमआई डाटा अपडेट नही करने पर भी असंतोष जाहिर किया।
कलेक्टर श्री सुचारी ने समस्त एसडीएमों को निर्देश दिए कि टीकाकरण जैसे महत्वपूर्ण कार्य की क्रास मानिटरिंग अपने संसाधनों के माध्यम से करें। उन्होंने बीएमओ से कहा कि वे हर रोज समीक्षा कर प्रगति से स्थानीय एसडीएम को अवगत कराएं। टीकाकरण कार्य के लिए प्रत्येक आशा कार्यकर्ता को एक सौ रूपए मानदेय दिया जा रहा है। उनके कार्यो का सुपरविजन अनिवार्यतः हो। ऐसी आशा कार्यकताएं जिनके द्वारा कार्यो में कोताही बरती जा रही है उनकी सेवाएं समाप्ति के कार्य अविलम्ब हो।
कलेक्टर श्री सुचारी ने टीकाकरण जैसे अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार करने पर बल देते हुए कहा कि हर माता अपने बच्चों को टीका लगवाना चाहती है बस उसें जानकारी हो कि टीका लगाने के फायदे क्या है। ग्रामीण अमला के द्वारा प्रचार-प्रसार में रूचि नही ली जा रही है यह बात अभियान तिथियों में प्रदर्शित हो रही है। बूथ पर टीकाकरण से वंचित बच्चों के घरों में पहुंचकर उनका टीकाकरण करना है। उक्त कार्य में विशेष रूचि लेने के निर्देश उन्होंने दिए। कलेक्टर श्री सुचारी ने स्थानीय अमले को बेहतर प्रशिक्षित करने के लिए जिला मुख्यालय और खण्ड मुख्यालय पर उन्हें प्रशिक्षण आयोजित करने के निर्देश दिए। इसके लिए उनके द्वारा इस माह की 23 और 25 तारीख तय की गई है।
कलेक्टर श्री सुचारी ने कहा कि संयुक्त प्रयासों से हम शत प्रतिशत टीकाकरण कर मिशन इन्द्रधनुष ग्रुप से विदिशा जिला बाहर निकल सकता है। ऐसे पुख्ता प्रबंध आगामी अभियान के पूर्व सुनिश्चित किए जाए। बैठक में विगत चरण का फीडबैक, सुधारात्मक गतिविधियां, मिशन के तहत जिन क्षेत्रों में सत्र आयोजित किए जाने है उनमें मुख्यतः रिक्त उप स्वास्थ्य केन्द्र, उच्च जोखिम क्षेत्र विगत दो माह से जहां नियमित टीकाकरण नही हुआ है। मीजल्स आउट ब्रेकवाला क्षेत्र इत्यादि प्रमुख है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीएल आर्य ने बताया कि अभियान को जिले में चुनावी तर्ज पर क्रियान्वित किया जा रहा है ताकि जिला मिशन इन्द्रधनुष की सूची से पृथक हो सके। अभियान अवधि के दौरान सम्पादित किए गए कार्यो की रूपरेखा से भी उन्होंने अवगत कराया।
बैठक में अपर कलेक्टर श्री एचपी वर्मा समेत समस्त एसडीएम, तहसीलदार, डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि डॉ. एनएस रजावत, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. प्रमोद मिश्रा के अलावा समस्त बीएमओ, सुपरवाईजर और अन्य चिकित्सकगण मौजूद थे।