अपने व्यापार को दें अन्तराष्ट्रीय पहचान । वेबसाइट डिज़ाइन , वेब एप्लीकेशन, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट ,एंड्राइड एप्लीकेशन, VPS सर्वर, लिनक्स होस्टिंग, डेडिकेटेड सर्वर, डोमेन नेम, डेटाबेस एप्लीकेशन, ईपेपर एप्लीकेशन, ई बुक, न्यूज़ पोर्टल, मेट्रीमोनियल वेबसाइट, जॉब पोर्टल, स्कूल कॉलेज एप्लीकेशन, विडियो पोर्टल, वेब टीवी, ई-कॉमर्स वेबसाइट, वेयर हाउस मैनेजमेंट, कार बुकिंग पोर्टल, ऑनलाइन एकाउंटिंग बिलिंग प्रोडक्ट मैनेजमेंट, 3D वेबसाइट, कॉलोनी / काम्प्लेक्स का वर्चुअल टूर, प्रोडक्ट का 3डी प्रेजेंटेशन वेबसाइट, क्लॅसीफाइड्स, प्रॉपर्टी/ ब्रोकिंग/ रियल एस्टेट पोर्टल आदि के लिए संपर्क करें। ------------------------------- ई-सुविधा ( बलराम साहू ) 09630608544 08962667588 www.esuvidha.co.in गली न. 2, पार्वती भवन, दुर्गा नगर विदिशा (एम.पी.).

लाइफस्टाइल

1. जानिए लौंग के 10 बेजोड़ गुण ->

लौंग की भारतीय खाने में खास जगह है। इसके उपयोग से खाने में स्वाद के साथ-साथ कुछ अहम गुण भी जुड जाते हैं। इसका उपयोग तेल व एंटीसेप्टिक रुप में किया जाता है। लौंग में आपके स्वास्थ्य को दुरुस्त रखने के कई गुण होते हैं।

लौंग में होने वाला एक खास तरह का स्वाद इसमें होने वाले एक तत्व युजेनॉल की वजह से होता है, यही तत्व इसमें होने वाली एक खास तरह की गंध को पैदा करता है। हालांकि लौंग हर मौसम में हर उम्र के व्यक्तियों के लिए लाभदायक है पर सर्दी के मौसम में इसकी खास उपयोगिता है क्योंकि इसकी तासीर बहुत गर्म होती है। लौंग के तेल की तासीर काफी गर्म होती है और इस कारण इसे बहुत सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए। जब आप अपनी त्वचा पर इसे लगाएं तो सीधे तौर पर बिना किसी चीज़ के साथ मिलाए न लगाएं।

 

2. जानिए लहसून के ज्यूस के 10 अनमोल गुण-> लहसून के नाम से ही बच्चे चिढ़ने लगते हैं और दिमाग में कौंध जाता है एक बदबू का ख्याल। यकिन जानिए कि यह जानने के बाद कि लहसून में आप के स्वास्थ्य को बेहतर रखने के चमत्कारी गुण होते हैं, आप इसे अपने भोजन में जरुर शामिल करेंगे। , लहसून में कुछ बहुत ही खास गुण होते हैं और इसे न केवल भारत में बल्कि दुनिया के कई देशों में एक महत्वपूर्ण मसाले के तौर भी पर इस्तेमाल किया जाता है। लहसून में खाने को एक अलग ही स्वाद देने की क्षमता होती है जो बहुत से लोगों को पसंद होती है।

लहसून को अपनी डाइट का हिस्सा बनाने का एक और तरीका है इसे ज्यूस के तौर पर इस्तेमाल करना। आप जल्दी ही इससे आने वाले बदलाव को महसूस करने लगेंगे।

 

3.हेल्थ टिप्स : फैमेली डॉक्टर है पपीता -> इस पौष्टिक और रसीले फल से कई विटामिन मिलते हैं, नियमित रूप से खाने से शरीर में कभी विटामिन्स की कमी नहीं होती। बीमार व्यक्ति को दिए जाने वाले फलों में पपीता भी शामिल होता है, क्योंकि इसके एक नहीं, अनेक फायदे हैं। आसानी से अवशोषित होने से यह शरीर को काफी जल्दी फायदा पहुंचाता है। पपीता एक ऐसा फल है, जो कच्चा और पका हुआ दोनों ही रूप में खाया जाता है। कच्चा फल हरे रंग का दिखाई देता है, अधिकतर इसकी सब्जी बनाई जाती है। फल के रूप में ज्यादातर पका हुआ पपीता ही खाया जाता है।

क्या-क्या मिलता है?
प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, बी और सी के साथ ही कुछ मात्रा में विटामिन-डी भी मिलता है। पपीता पेप्सिन नामक पाचक तत्व का एकमात्र प्राकृतिक स्रोत है। इसमें कैल्शियम और कैरोटीन भी अच्छी मात्रा में मिलता है। इसके अलावा फॉस्फोरस, पोटेशियम, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट्स, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन भी होता है। पपीता सालभर बाजार में उपलब्ध होता है।